Wednesday, April 24, 2024
Homeहेल्थरीढ़ में है तकलीफ, रीढ़ की हड्डी की समस्या के लिए रामबाण...

रीढ़ में है तकलीफ, रीढ़ की हड्डी की समस्या के लिए रामबाण है ये सर्जरी, जानें क्या हैं फायदे

रीढ़ में है तकलीफ, रीढ़ की हड्डी की समस्या के लिए रामबाण है ये सर्जरी, जानें क्या हैं फायदे, एंडोस्कोपिक सर्जरी: आधुनिक युग में एंडोस्कोपिक सर्जरी का चलन काफी बढ़ गया है। इस ऑपरेशन से पीठ की बीमारियों के इलाज में उल्लेखनीय प्रगति हुई है। आइए आपको बताते हैं कि एंडोस्कोपिक सर्जरी क्या है और कौन से मरीज़ इसे करा सकते हैं।

रोग और स्पाइनल स्टेनोसिस जैसी समस्याएं

यह भी पढ़े- रोजाना एक कटोरी खाएं अंकुरित मुंग दाल, होगी सेहत से जुड़ी परेशानियां दूर, जाने इसके भरपूर फायदे

मानव शरीर में रीढ़ की हड्डी एक महत्वपूर्ण अंग है। यह शरीर की संपूर्ण संरचना को बनाए रखता है। लेकिन आज लोग रीढ़ की हड्डी से जुड़ी कई बीमारियों से पीड़ित हैं। इनमें डिस्क रोग और स्पाइनल स्टेनोसिस जैसी समस्याएं काफी आम हो गई हैं। ये बीमारियाँ जीवन को कठिन बना देती हैं। इसलिए रोजमर्रा के काम करने में भी दिक्कतें आती हैं। पहले ऐसी बीमारियों के इलाज के लिए ओपन सर्जरी का इस्तेमाल किया जाता था, लेकिन अब एंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी ने ऐसी बीमारियों के इलाज में पूरा खेल बदल दिया है।

एंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी

यह भी पढ़े- ठण्ड के समय कार में जमी भाप को है हटाना, ये है सही तरीका, आप कर देते है अनगिनत गलतिया

डॉक्टरों के मुताबिक, एंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी एक बेहद सटीक सर्जिकल तकनीक है। डॉ. सीके बिड़ला अस्पताल में स्पाइन सर्जरी के निदेशक अरुण भनोट ने कहा कि एंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी में चीरा बहुत छोटा होता है। इसका फायदा यह होता है कि मरीज बहुत जल्दी ठीक हो जाता है। मरीज़ तेजी से ठीक हो जाते हैं और पारंपरिक सर्जरी की तुलना में ऑपरेशन का समय बहुत कम होता है। इस सर्जरी के और भी कई फायदे हैं। इस सर्जरी से मरीज को बहुत कम निशान पड़ते हैं और शरीर को बहुत कम नुकसान होता है। इस ऑपरेशन के दौरान संक्रमण का खतरा बहुत कम होता है।

अपने डॉक्टर से संपर्क करें

यह भी पढ़े- अगर नजर है आपकी भी तेज तो, 7 सेकंड में इस जोकर के कुत्ते को ढूंढ कर बताएं

इस प्रक्रिया से हर्नियेटेड डिस्क और पीठ के संक्रमण जैसी स्थितियों का आसानी से इलाज किया जाता है, और एंडोस्कोपिक स्पाइन सर्जरी के साथ, रोगियों को अस्पताल में बहुत कम समय तक रहना पड़ता है। मरीज केवल एक या दो दिन ही अस्पताल में रह सकते हैं। फायदा यह है कि एंडोस्कोपिक सर्जरी की लागत अब पहले की तुलना में कम हो गई है और रीढ़ से संबंधित बीमारी होने पर मरीज इस सर्जरी से गुजर सकते हैं। रीढ़ से संबंधित सभी स्थितियों में इस सर्जरी की आवश्यकता नहीं होनी चाहिए। इस प्रकार की सर्जरी की योजना डॉक्टर की सिफारिश के बाद ही बनाई जानी चाहिए।

RELATED ARTICLES