Thursday, April 18, 2024
Homeहेल्थपोषक तत्वों तथा विटामिनों से भरपूर होती है कीवी रोजाना करे इसका...

पोषक तत्वों तथा विटामिनों से भरपूर होती है कीवी रोजाना करे इसका सेवन, मिलेगा बहुत सी बीमारियों से लाभ

आप भी कीवी के बारे में जानते हो होंगे ,यह एक फल होता है जो सेहत से लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होता है। स्वस्थ शरीर के लिए पोषक तत्व और विटामिन्स की बहुत ज्यादा जरुरत होती है। कीवी एक ऐसा ही फल है जो स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होता है। इसमें बेहतर स्वास्थ्य के लिए आवश्यक कई तरह के पोषक तत्व पाए जाते है। इसलिए इसे सुपर फ्रूट के नाम से भी जाना जाता है। कीवी का इस्तेमाल कार्डियोवैस्‍कुलर रोगों के इलाज, ब्लड प्रेशर और आंखों के रोगों के लिए भी किया जाता है। यह विटामिन के, विटामिन सी, विटामिन ई, पोटेशियम आदि इसमें भरपूर मात्रा में पाए जाते है जानते है इससे होने वाले फायदे ,

स्किन के लिए लाभकारी

यह भी पढ़े –कम लागत में मटर की खेती से किसान होंगे मालामाल, जाने इसकी खेती और उन्नत किस्मों के बारे में

कीवी खाने से स्किन पर बहुत से फायदे होते है। एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुणों के कारण कीवी त्वचा पर होने वाले रैशेज, मुहासों और सूजन को कम कर त्वचा को साफ रखने में बहुत ज्यादा लाभकारी होती है। इसे खाने से त्वचा में बहुत से फायदे होते है।

खून की कमी को दूर करता है

कीवी खाने से शरीर में खून की कमी नहीं होती है। और शरीर मरे खून का थक्का भी नहीं बनता है। इसमें एंटीथ्रोम्बोटिक यानी खून का थक्का न जमने देने का गुण पाए जाते है। जिसकी वजह से स्ट्रोक, किडनी और हार्ट अटैक संबंधी दिक्कत होने का खतरा बहुत कम होता है।

विटामिन-C की मात्रा

इसमें विटामिन-C पाया जाता है. यह विटामिन-C और एंटी-ऑक्सीडेंट का एक उत्तम स्रोत होती है। जो शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव को कम कर आपकी त्वचा को स्वस्थ बनाये रखती है।

कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करने में फायदेमंद

यह भी पढ़े –इस पत्ते की खेती से चमकेंगी किसानों की किस्मत होगी तगड़ी कमाई, जाने इस खेती के बारे में

कीवी खाने से कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। इसके नियमित सेवन से शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल यानी एलडीएल की मात्रा कम रहती है। और एचडीएल यानी गुड कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ा देता है। जिससे हार्ट से लेकर परेशानिया कम होती है। इस तरह से आप कीवी का सेवन कर सकते है। इसे खाने से सेहत अच्छी बानी रहती है।

RELATED ARTICLES