Wednesday, July 17, 2024
Homeहेल्थSkin Care Tipsइस तरह से लगाए मुल्तानी मिट्टी और पाए स्किन में ग्लोइंग निखार,...

इस तरह से लगाए मुल्तानी मिट्टी और पाए स्किन में ग्लोइंग निखार, जाने इसे लगाने की आसान टिप्स के बारे में

मुल्तानी मिट्टी के बारे में आप भी जानते हो होंगे यह त्वचा को नेचुरल ग्लोइंग बनने के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होती है। मुल्तानी मिट्टी और शहद भी इन्हीं में से एक है. बेशक, मुल्तानी मिट्टी और शहद का इस्तेमाल त्वचा के लिए बहुत ज्यादा लाभकारी होता है। आपने शहद के साथ मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल नहीं किया होगा , तो आज हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे है। शहद को एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-बैक्टीरियल तत्वों का बेस्ट सोर्स माना जाता है. वहीं, मुल्तानी मिट्टी भी मैग्नीशियम, कैल्शियम और आयरन जैसे मिनरल्स गुणों से भरपूर होती है। ऐसे में मुल्तानी मिट्टी और शहद की मदद से आप त्वचा से जुड़ी बहुत सी परेशानियों को दूर कर सकते है। जानते है इससे होने वाले फायदे,

त्वचा में होंगे फायदे

यह भी पढ़े –फैशन स्टाइलिश लुक पाने के लिए आप भी इस तरीके से कर सकते है अपने फ्लोरल प्रिंट दुपट्टे को ट्राई, देखें इसकी आसान टिप्स

मुल्तानी मिट्टी के साथ शहद मिक्स करके लगाने से त्वचा की जलन से राहत पाने के साथ यह स्किन को ठंडा रखने का काम भी करती है। खासकर धूप में निकलने से पहले चेहरे और गर्दन पर शहद और मुल्तानी मिट्टी का फेस पैक बनाकर लगाने से त्वचा में बहुत से फायदे होते है।

त्वचा को बनाये नेचुरल ग्लोइंग

मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल त्वचा की खूबसूरत नेचुरल ग्लोइंग बनाने में लाभकारी होता है। वहीं मुल्तानी मिट्टी में शहद एड करके आप टैनिंग और धुप से बचने के लिए भी आप इसका इस्तेमाल कर सकते है। इसका इस्तेमाल करने से आपकी स्किन में बहुत से फायदे हो सकते है।

स्किन को सॉफ्ट बनाने में फायदेमंद

यह भी पढ़े –सर्दियों के मौसम में स्टाइलिश दिखने के लिए आप ट्राई कर सकती है इन आसान टिप्स को, जाने इनके बारे में

शहद में मौजूद मॉइश्चराइजिंग एजेंट त्वचा की ड्राइनेस दूर करने का और त्वचा में नमि रखने का काम करते है। ऐसे में मुल्तानी मिट्टी और शहद का इस्तेमाल करने से त्वचा का मॉइश्चर मेंटेन रहता है. साथ ही आपकी स्किन सॉफ्ट और मुलायम हो जाती है इस तरह से मुल्तानी मिट्टी के त्वचा पर बहुत से फायदे होते है। (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. इन पर अमल करने से पहले संबंधित डॉक्टर से संपर्क करें.)

RELATED ARTICLES