Wednesday, July 17, 2024
Homeदेसी जुगाड़Desi Jugaad: गांव कसबे के किसान ने बाइक के जुगाड़ से किया...

Desi Jugaad: गांव कसबे के किसान ने बाइक के जुगाड़ से किया जुताई यंत्र का अद्बुद्ध अविष्कार, देखे अनोखा वायरल जुगाड़…

Desi Jugaad: गांव कसबे के किसान ने बाइक के जुगाड़ से किया जुताई यंत्र का अद्बुद्ध अविष्कार, देखे अनोखा वायरल जुगाड़… सोशल मीडिया पर इन दिनों जुगाड़ के वीडियो काफी धूम मचा रहे है ऐसा ही एक खेत की जुताई का जुगाड़ खूब सुर्खियों में छाया हुआ है जिसमे शख्स ने बाइक के जुगाड़ से खेत जुताई के यंत्र का अविष्कार कर लिया है आईये जाने इस अद्बुद्ध जुगाड़ के बारे में…

Desi Jugaad: गांव कसबे के किसान ने बाइक के जुगाड़ से किया जुताई यंत्र का अद्बुद्ध अविष्कार, देखे अनोखा वायरल जुगाड़…

भारत में जुगाड़ू लोगो की कमी है और ना ही जुगाड़ों की कमी है आये दिन कई जुगाड़ों के अविष्कार किये जाते है जिसने वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते नजर आते है जिसमे कुछ जुगाड़ तो इतने गजब के होते है की जिन्हे देख हसी के ठहाके भी रुकने का नाम नहीं लेते है पर आज हम आपको मध्य प्रदेश के दो किसान भाइयों के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने एक ऐसा जुगाड़ किया है जिसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

यह भी पढ़े : – R15 के रास्ते का काटा बनी नई स्पोर्टी लुक Yamaha MT-15, स्टैंडर फीचर्स के साथ मिलता है पॉवर फुल इंजन, जाने कीमत

दो भाइयों ने मिलकर खेतों की जुताई के लिए तैयार किया अनोखा जुगाड़

दरअसल मध्य प्रदेश के हरदा जिले के अंतर्गत रहने वाले 2 किसान भाइयों ने खेती के लिए देसी जुगाड़ से एक कुल्पा बनाया है यह कुल्पा बाइक के सहारे चलता है और 10 एकड़ की फसल की जुताई आसानी से कर सकता है सोहन जाट ने मोबाइल में यूट्यूब पर वीडियो देखकर इसे बनाया है जिसकी अब गांव में चर्चा बनी हुई है।

यह भी पढ़े : – Hero और Honda की जोरदार धोबी पछाड़ कर रही Bajaj की स्पोर्टी लुक बाइक, जाने प्रीमियम फीचर्स और पॉवर फुल इंजन

कम लागत में अधिक काम करता है ये यंत्र

आपको बता दे की 1 लीटर में 2 से 3 एकड़ खेत की जुताई आसानी आसानी से करता है यह यंत्र इन दोनों किसानों भाइयों के द्वारा बनाए गए इस कुल्पा देखने के लिए कई लोग पहुंच रहे हैं। किसान भाइयों का कहना है कि जमाना बदल चुका है अब मशीनों से खेती की जा रही है इसीलिए अब इस कुल्पा को तैयार किया गया है। उन्होंने बाइक से तैयार किया है जिससे किसानों की लागत और समय दोनों बच्चे की अपने खेत में महज कम लागत में अच्छे से जुताई कर पाएंगे।

RELATED ARTICLES